जब लगा था “तीर” तब इतना “दर्द” न हुआ ग़ालिब…
“ज़ख्म” का एहसास तब हुआ जब “कमान” देखी अपनों के हाथ में।
– Mirza Ghalib